सोमवार, 14 अगस्त 2017

अरुण कुमार सिंह गौरव की गजलें



1- हिन्दी कहां है

हिन्दी सपना है हमारी हकीकत नहीं है।
राजभाषा के साथ विचित्र विडम्बना रही है।।

सार्वजनिक सम्मान देने से कुछ नहीं होगा।
आज भी ये चौखट के बाहर खड़ी है।।

कभी तो बुलाएंगे आप इसे घर में ।
राष्ट्रभाषा इस आस में कब से पड़ी है।।

हिन्दी के परखचे उड़ रहे हैं देखिए।
अंग्रेजी की ऐसी यहां आंधी चली है।।

देश आजाद हुआ पर हिन्दी आज भी।
अंग्रेजी के साथ में जी रही है।।

पुरखों ने इसे लहू से सींचा था।
आप नमाने मगर बात ये सही है।।

हिन्दी भी अंग्रेजी में लिखने वालों कहिए।
क्या ये हिन्दी की अर्थी सजी है।।

दुनिया के किसी आजाद देश में गौरव।
राष्ट्रभाषा का हरगिज ऐसा तिरस्कार नहीं है।।



2- हिन्दी क्या है

भारत की आन बान और शान हिन्दी है।
हम सबकी विदेश में पहचान हिन्दी है।।

हर भाषा प्यारी है इंकार नहीं लेकिन।
जनगण का केवल प्यार नहीं अभिमान हिन्दी है।।

स्वाधीनता संग्राम का इतिहास कहता है।
हमारी आजादी का एक बरदान हिन्दी है।।

कश्मीर से कन्याकुमारी तक जो भी मुद्दे हैं।
उन सारे विवादों का समाधान हिन्दी है।।

आजादी के दीवानों की चाहत इसको कहिए।
गांधी सुभाष के दिल का अरमान हिन्दी है।।

अगर सच कहने का अधिकार मिले तो।
हमारे अमर शहीदों का बलिदान हिन्दी है।।

कहने वाले तो यहां तक कहते हैं।
भारत में रहने वाला हर इंसान हिन्दी है।।

भारत को जब माता मान लिया है गौरव।
तो इसकी मर्यादा का परिधान हिन्दी है।।

संपर्क-
अरुण कुमार सिंह गौरव
चरौंवां बलिया उ0 प्र0 221718
मोबा0-8858604936

रविवार, 6 अगस्त 2017

राहुल देव की कहानी : रॉंग नंबर



         उ.प्र. के अवध क्षेत्र के महमूदाबाद कस्बे में 20 मार्च 1988 को का जन्म | शिक्षा लखनऊ विश्वविद्यालय, लखनऊ और बरेली कॉलेज, बरेली से |
साहित्य अध्ययन, लेखन, भ्रमण में रूचि | अभी तक एक कविता संग्रह तथा एक बाल उपन्यास प्रकाशित | पत्र-पत्रिकाओं एवं अंतरजाल मंचों पर कवितायें/ लेख/ कहानियां/ समीक्षाएं आदि का प्रकाशन | इसके अतिरिक्त समकालीन साहित्यिक वार्षिकी ‘संवेदन’ में सहसंपादक | एक कहानी संग्रह प्रकाशनाधीन |
          वर्ष 2003 में उ.प्र. के तत्कालीन राज्यपाल विष्णुकांत शास्त्री द्वारा हिंदी के नवलेखन पुरस्कार से पुरस्कृत, वर्ष 2005 में हिंदी सभा, सीतापुर द्वारा युवा कहानी लेखन पुरस्कार से तथा अखिल भारतीय वैचारिक क्रांति मंच, लखनऊ द्वारा वर्ष 2008 में विशिष्ट रचनाधर्मिता हेतु सम्मानित |
सम्प्रति उ.प्र. सरकार के एक विभाग में नौकरी के साथ साथ स्वतंत्र लेखन में प्रवृत्त |

राहुल देव की कहानी
रॉंग नंबर

   आज फिर वही हुआ | जफ़र के मोबाइल की घंटी बजी | फ़ोन उठाया तो पता चला रॉंग नंबर | ये स्थिति कोई नयी नहीं थी | जफ़र ने जब से अपना नया मोबाइल लिया था तभी से यह सिलसिला शुरू हो गया था | हफ्ते में दो-चार रॉंग नम्बरों से कालें आ ही जातीं थीं | पहले-पहल जब दोस्तों ने जफ़र से उसका नंबर पूछा तो उसने बताया 9454.....


‘क्या बे सीएसएलएल का नंबर लियो है ?’, दोस्तों ने जोर का अट्टहास लगाते हुए कहा |
‘क्यूँ क्या हुआ ?’, जफ़र ने पूछा |
‘अबे सीएसएलएल सरकारी लोगों की पहचान है, थकी सेवा है | तुझे इसका फुलफॉर्म मालूम है कि नहीं सीएसएलएल मतलब काम्प्लीकेटेड सेवा लेके लुटे |’, जफ़र के दोस्तों ने उसका मज़ाक उड़ाते हुए कहा |

        जफ़र एक गरीब घर का अच्छा लड़का था | इन्टर गाँव से पास करने के बाद उसके अब्बू ने उसे शहर जाकर कोई हुनर सीखने को कह रहे थे | जफ़र होनहार व काम में तेज लड़का था | उसका मन आगे और पढ़ने को था | इस बारे में जब उसके अब्बू को पता चला तो वे बोले, ‘बेटा, घर के हालात का तो तुझे पता ही है | कोई हुनर सीखेगा तो कमाएगा | पढ़कर क्या करेगा और पढ़ाई में भी पैसा लगेगा | तुझे तो पता ही है फिर पढ़ने-लिखने के बाद भी आजकल नौकरी मिलती कहाँ है ?’


        जफ़र की अम्मी से जफ़र की उदासी देखी न गयी उन्होंने अपनी जमापूंजी अपने शरीर से उतारकर दे दी | इस प्रकार जफ़र ने किसी तरह शहर के एक कॉलेज में ग्रेजुएशन में दाखिला ले लिया | अब घर पर कुल चार प्राणी रह गए | उसकी अम्मी, अब्बू और जफ़र की दो बहनें |


       कुछ ही दिनों में शहर की चकाचौंध से जफ़र का दिमाग खुलने लगा | यार, दोस्त बढ़े और उसकी पढ़ाई का एक साल गुज़र गया | दूसरे साल जफ़र ग्रेजुएशन सेकंड इयर के एग्जाम देने के बाद घर आया हुआ था | उसने एक दिन अपने अब्बू से मोबाइल दिलवाने को कहा | उसके अब्बू ने रुखी आवाज़ में कहा, ‘मोबाइल क्या करेगा तू ? यहाँ खाने को पैसा नहीं और तुझे मोबाइल चाहिए | पीसीओ से महीने में एकाध बार फ़ोन कर लिया कर बस...|’
जफ़र उगता सूरज था | उसके सभी दोस्तों के पास एक से एक बढ़िया मोबाइल फ़ोन्स थे | जफ़र ने अम्मी से कहा, ‘अम्मी मेरे दोस्त सुहैल के पास बहुत बढ़िया मोबाइल है, उससे फोटू भी खिंच जाता है | उसके मामू ने उसे ख़ास सउदिया से लाकर दिया है | अम्मी मेरे मामू मुझे कभी कुछ नहीं देते...!’
अम्मी क्या कहतीं, चुप रहीं और इस साल भी जफ़र की मोबाइल लेने की ख्वाहिश पूरी न हो सकी |

          फाइनल इयर में पहुँचते- पहुँचते वह दो-चार जगह ट्युशंस पढ़ाने लगा | मोबाइल खरीद लेने की उसकी इच्छा ने उसके खर्चे कम करा दिए | पैसे जोड़-जोड़ कर धीरे-धीरे उसने मोबाइल खरीदने लायक पैसे जमा कर लिए और ग्रेजुएशन का रिजल्ट आते-आते उसने एक मोबाइल खरीद लिया | अपने नए मोबाइल के लिए उसने सीएसएलएल कंपनी का सिमकार्ड लिया था | उस दिन वह बहुत खुश था और तुरंत ही उसने अपने सभी दोस्तों को अपना नंबर बाँट दिया था | उसने सबसे पहली कॉल अपने घर पर की और बताया कि उसने अपनी कमाई से एक अच्छा सा मोबाइल फ़ोन ख़रीदा है | उसकी बहनें उसका मोबाइल देखने के लिए जिद करने लगीं | उसके अम्मी और अब्बू भी यह सोचकर खुश हुए की चलो लड़का लाइन पे लग गया | उसने कई बार अपने मोबाइल को उलट-पलट कर देखा, कभी बटन दबाकर रिंगटोन्स सुनने लगता तो कभी गेम्स खेलने लगता | अपनी कमाई से लिए गए इस आधुनिक खिलौने से खेल-खेलकर वह प्रफुल्लित हो रहा था |
ट्युशंस से उसका खर्च निकल आता था इसलिए अब उसने घर से मदद लेना भी कम कर दिया था | आज दोस्तों की बात सुनकर पहले तो उसने नंबर चेंज करने की ठानी लेकिन लगभग सभी जगह वह अपना नंबर दे चुका था | उस समय आज की तरह एमएनपी सेवा भी नहीं थी | खैर उसका वह नंबर बना रहा |


          ग्रेजुएशन पास करने के बाद उसने कई जगह नौकरी वगैरह के लिए हाथ-पाँव मरने शुरू कर दिए मगर बेरोजगारी के इस दौर में उसे आसानी से नौकरी कहाँ मिलनी थी | कुछ समय बाद जफ़र ने मार्किट में पुस्तकों की एक दूकान में एक छोटी-मोटी नौकरी कर ली जिससे उसके रूम का किराया एवं उसका अन्य खर्च निकल आता था | जफ़र के कमरे से पुस्तकों की दूकान लगभग तीन किलोमीटर की दूरी पर थी | पैसे बचाने के लिए वह अपने कमरे से दूकान तक पैदल ही जाता था | उसके पास इतने पैसे न थे की वह कोई गाड़ी खरीद सकता मगर उसके मन में तमाम बढ़िया गाड़ियों की तस्वीरें छाईं रहतीं | सड़क पर एक से एक अच्छी गाड़ियों को देखकर उसका मन मचल उठता | वह सोचता कि काश वह भी एक गाड़ी खरीद सकता जिस पर वह अपनी अम्मी को बैठाकर पूरे शहर भर की सैर कराता |


       जफ़र का तेज दिमाग धीरे-धीरे कुंद होता जा रहा था | घर से पहली बार शहर आते वक़्त उसकी अम्मी ने नसीहत दी थी कि कि बेटा कुछ भी हो हर वक़्त यह जरूर याद रखना कि अल्लाह हमें देखता है उसकी नज़रों से कहीं कुछ भी छिपा नहीं है | ये दुनिया और इस दुनिया के तमाम मसले उसी के बनाए हुए है | बुरे वक़्त में घबराना नहीं और अच्छे वक़्त में उसे भूलना नहीं | मगर अब वह पूरी तरह से मनीमाइंडेड बन चुका था | वह सोचता था कि शायद आज के दौर में जिसके पास पैसा है वही खुश है | उसने गरीबी के दंश को झेला था जिसका ज़िम्मेदार वह ऊपरवाले को मानता था और इसी वजह से वह नमाज़ भी नहीं पढ़ता था |


            पुस्तकों की दूकान का मालिक जफ़र के काम से खुश था | जफ़र भी मेहनत से अपना काम करता था | एक दिन दूकान का मालिक किसी काम से बाहर गया हुआ था और जफ़र दूकान पर अकेला था | अचानक उसकी नज़र काउंटर पर गल्ले की तरफ पड़ी जिसमें चाभी लगी हुई थी शायद जल्दी में दूकान मालिक चाभी लगी छोड़ गया था | जफ़र के अलावा उस समय दूकान पर और कोई नहीं था | उसने गल्ला खोलकर देखा तो उसमें रुपये भरे हुए थे | गल्ले में रक्खे रुपयों को देखकर जफ़र का मन डोल उठा | एकाएक पता नहीं क्यों उसके मन में रुपये चोरी करने का विचार आया | उसकी अंतरात्मा ने उसे एक बार रोका पर फिर भी वह अपने आप पर नियंत्रण न रख सका | उसने इधर-उधर देखकर तुरंत कुछ पैसे पार कर दिए, तत्पश्चात उसने गल्ला बंद किया और पूर्ववत अपने काम में लग गया | थोड़ी देर में जब दूकान मालिक वापस आया तो जफ़र अन्दर ही अन्दर बहुत डर रहा था लेकिन ऐसा वैसा कुछ भी नहीं हुआ | शाम को जफ़र अपने कमरे पर वापस आया तो उसने चोरी किये गए रुपयों को गिना, पूरे तीन हज़ार रुपये थे | वह बहुत खुश हुआ, उसे जल्दी से पैसे बनाने का यह आईडिया बहुत अच्छा लगा |


         धीरे-धीरे जफ़र की संगत भी बिगड़ती जा रही थी | शाम को दूकान से छूटने के बाद बिगडैल लड़कों के साथ घूमना, पिक्चरें देखना और सिगरेट पीना शुरू कर दिया था उसने | पारिवारिक संस्कारों, विचारों, पढ़ाई आदि को ताक पर रखकर जीवन जीने लगा था जफ़र |
एक दिन हमेशा की तरह जफ़र अपने दोस्तों के बीच बैठा हुआ तफरीह कर रहा था कि उसका मोबाइल घनघना उठा | उसने उठाया तो कोई रॉंग नंबर था | उधर से आवाज़ आई-


         ‘हेल्लो पापा ! आप जल्दी से घर आ जाओ, बड़ी दिक्कत है यहाँ पर | हम लोगों को दिन दिन भर खाना नहीं मिलता | उधार वाले रोज-रोज आकर आपके बारे में पूछते हैं | आप कब तक आओगे पापा...?’
जफ़र की कुछ समझ में नहीं आया तो उसने फ़ोन काट दिया | फ़ोन पर कोई बच्चा बड़ी ही दैन्य आवाज़ में बोल रहा था | इसके बाद जफ़र ज्यादा देर तक अपने दोस्तों के बीच बैठ न सका | वह अपने कमरे पर लौट आया |
रात में वह जब अपने बिस्तर पर लेटा तो उस रॉंग नंबर वाले बच्चे की आवाज़ उसके सामने गूंजने लगी | उसे ऐसा लगा कि जैसे उसका बचपन ही उससे बातें कर रहा हो | पूरी रात उसे नींद नहीं आई |


          इस बात को धीरे-धीरे चार-पांच दिन बीत गए | जफ़र के मोबाइल पर कोई रॉंग नंबर नहीं आया | जफ़र खुश था कि शायद नेटवर्क की गड़बड़ी ठीक हो गयी कि तभी उसका मोबाइल बज उठा | उसने गुस्से में फ़ोन उठाया तो उधर फिर किसी बच्चे की आवाज़ थी-
‘पापा...पापा आप हो ! आप आ जाओ न ! आप जबसे कमाने के लिए बाहर गए हो तबसे मम्मी की तबियत बहुत खराब है और आज सुबह से हमने कुछ भी नहीं खाया है...!’


             ‘बेटा तुम्हारे पापा कहीं गए हुए हैं | तुम अपने घर का पता मुझे बता दो तो मैं कुछ पैसे भिजवा देता हूँ |’, जफ़र ने धीरे से कहा |
इस पर बच्चे ने अपने घर का पता उसे बता दिया जिसे जफ़र ने अपनी एक कागज़ के टुकड़े पर नोट कर लिया | वह सोच रहा था कि एक ही जगह से इतनी बार रॉंग नंबर कैसे आ रहा है !
उसने यह बात शाम को अपने दोस्तों को बताई तो वे हंसी उड़ाने लगे | वे बोले,
‘अबे बेवकूफ तो तू मदद करेगा उस परिवार की जिनको तू जानता तक नहीं है |’


       जफ़र ने कहा, ‘मेरे पास उसका एड्रेस है कम से कम चलकर देखें तो सही अगर उनकी स्थिति वास्तव में खराब है तो हमें चलकर उनकी मदद करनी चाहिए |’
उसके दोस्तों को उसका आईडिया पसंद नहीं आया | उन्होंने एक स्वर में कहा-
‘तुझे समाज सेवा का शौक चर्राया है तो तू जाके देख | हम लोग तेरे साथ फ़ालतू में कहीं नहीं जाने वाले | अरे यार कोई हम लोग भी बहुत अमीर तो हैं नहीं | जब अपनी हालत ही पतली है तो हम मदद कैसे कर सकते हैं |’
जफ़र बुझे मन से अपने रूम पर वापस लौट आया |

        वह अपने कमरे में बैठा था कि उसकी नज़र अपनी संदूकची पर पड़ी जिसमे वह दूकान से चुराए हुए रुपये जमा करता था | उन्होंने संदूकची खोलकर गिने तो पूरे पंद्रह हज़ार रुपये थे | उसके सामने अब अपने सपने नहीं बल्कि उस बच्चे का भूख से पीड़ित चेहरा आ रहा था | जफ़र हमेशा अपनी तुलना अपने से बड़े लोगों से करता था उसे इल्म ही नहीं था कि उससे भी ज्यादा गरीब लोग इस दुनिया में पड़े हुए हैं | आखिरकार अपने आप से एक लम्बी जद्दोजहद के बाद जफ़र ने निश्चय किया कि कल वह दूकान से छुट्टी लेकर उस बच्चे के घर जायेगा तथा इकट्ठा किये हुए ये सारे पैसे उसके परिवार को दे देगा | शायद यह उसके संचित संस्कार ही थे जो कि धीरे-धीरे उसके हृदय को परिवर्तित कर रहे थे | उसने अल्लाह से अपने बुरे कर्मों की तौबा की तथा आगे से कभी चोरी न करने की कसम खायी |


        आज दूकान पर जाते हुए वह अपने आप को काफी हल्का महसूस कर रहा था | दूकान पर पहुंचकर उसने दूकान मालिक से कुछ जरूरी काम होने की बात कहकर आज न आ पाने की बात कही तथा वह वहीं से उस परिवार के घर के लिए निकल गया |


       रास्ते की दूरियां तय करते-करते तथा पूछते-पाछते वह दिए गए पते पर पहुँच गया | उस घर के बाहर पहुँचने पर उसने देखा कि घर की स्थिति अत्यंत खराब थी | उसने लकड़ी का टूटा हुआ दरवाज़ा खटखटाया तो उधर से कोई प्रत्युत्तर नहीं मिला | आस-पड़ोस के लोग उसे खा जाने वाली नज़रों से घूर रहे थे मानो पूछना चाहते हों कि वह यहाँ क्यों आया है ? कौन है वह ??
जफ़र ने सोचा कि शायद यहाँ कोई नहीं आता | उसने हड़बड़ी में अपने कपड़ों को ठीक करने की कोशिश की, इतने में एक दस ग्यारह साल के बच्चे ने दरवाज़ा खोला और बोला-


        ‘आप कौन हो ? पापा अभी नहीं हैं | जब पापा वापस आ जायेंगे तब आप अपने पैसे ले जाना | अभी हमारे पास आपको देने के लिए कुछ नहीं है |’
शायद वह जफ़र को भी उधार वाला समझ रहा था |


जफ़र बोला- ‘बेटा ! मैं तुम्हारे पापा का दोस्त हूँ | याद है मेरी तुमसे फोन पर बात हुई थी |’
‘आप...हाँ..हाँ याद आया, लेकिन आप इतनी जल्दी आ गए, आप अन्दर आ जाओ |’, लड़का थोड़ा खुश होते हुए बोला |
बरसात की वजह से उस घर में भयंकर सीलन थी | जफ़र ने अपने आप को व्यवस्थित करते हुए एक कोने में पड़ी हुई कुर्सी पर बैठ गया | लड़का भागकर अन्दर के कमरे में चला गया | जफ़र ने अपनी नज़रें उठाकर इधर-उधर देखा तो उसे महसूस हुआ कि दुनिया में उससे भी ज्यादा गरीब लोग हैं जिनके पास शिक्षा तो दूर खाने तक को नहीं है | पता नहीं हमारी सरकार को यह सब क्यों नहीं दिखता...


        थोड़ी देर बाद एक बीमार सी लगने वाली महिला ने कमरे में प्रवेश किया | बच्चे ने शायद उसे जफ़र के बारे में बता दिया था | उसने एक आशा भरी दृष्टि से जफ़र की ओर देखा | जफ़र ने उसे पैसे देते हुए कहा कि यह पैसे उसके पति ने भेजे हैं | यूँ कहकर वह तेजी से जाने के लिए खड़ा हो गया | जफ़र को डर था कि कहीं वह ज्यादा पूछताछ न करने लगें | इससे पहले कि वह महिला उससे कुछ और पूछ पाती वह तेजी से बाहर की ओर निकल गया |


     लौटते वक़्त जफ़र के मन में झंझावात उमड़ रहा था | उसे अपने पिछले कुछ समय के कृत्यों पर बहुत पश्चाताप हो रहा था | उसने आसमान की ओर मुंह कर सही राह दिखाने के लिए अल्लाह का शुक्रिया अदा किया | घर आकर उसने अपने मोबाईल पर अपनी अम्मी और अब्बू से बात की | अब उसके दिल में एक शांतिमय सुकून था | इस एक रॉंग नंबर ने उसके जीवन की दिशा बदल दी थी |
--


संपर्क सूत्र- 9/48 साहित्य सदन, कोतवाली मार्ग, महमूदाबाद (अवध), सीतापुर, उ.प्र. 261203
मो– 09454112975
ईमेल- rahuldev.bly@gmail.com

मंगलवार, 25 जुलाई 2017

हिंदी जगत की समृद्धि के लिए यह एक महत्‍वपूर्ण कदम : धर्मेश कठेरिया





 रचनाओं के श्रव्य (ऑडियो) अनुबंध के संबंध में
 महोदय/महोदया,
          सादर अवगत करना है कि AVIS Pvt. Ltd. (Agastya Voice And Infotainment Services Private Limited) भारत की तेजी से बढ़ती हुई हिंदी में आडियो बुक निर्माणकर्ता कंपनी है। हमें आशा है कि आप कंपनी से जुड़कर देश के उन करोड़ों हिंदी प्रेमियों एवं दिव्यांगजनों तक अपने महत्वपूर्ण लेखन को पहुंचाकर गौरवान्वित महसूस करेंगे। इस संबंध में आपके द्वारा किए गए महत्वपूर्ण लेखन कार्य को कंपनी श्रव्य (ऑडियो) रूप में करना चाहती है।

अत: आप से अनुरोध है कि आप अपनी कृति/पुस्तक के श्रव्य (ऑडियो) के अधिकार प्रदान करने की अनुमति दें।
       सादर अनुरोध के साथ।
·       महोदय/महोदया,  सहमति हेतु नीचे दिए गए अनुबंध को कॉपी करें और एक नया मेल कम्पोज़ कर उसमें अनुबंध को पेस्‍ट करें। अब आवश्यकतानुसार विवरण भरें, और अंत में अपना नाम और सहमति लिखकर हमें booksinvoice@gmail.com पर भेज दें।

 Sd/-
   निदेशक
AVIS
Agastya Voice and Infotainment Services Pvt. Ltd.

कॉपीराइट
अनुबंध पत्र Agastya Voice And Infotainment Services Pvt. Ltd.
Add: Plot No. 02, Shastri Nagar, Jabalpur, Madhya Pradesh, India, 482001
Reach us:  avispvt.ltd@ gmail.com

कॉपीराइट अनुबंध

भाग एक:
यह कॉपीराइट अनुबंध आपके (लेखक) साथ दिनांक ..................................... से  मान्य होगा।
के बीच (नाम एवं पता) - ...........................................................................................................................................
तथा –
AVIS (अगस्‍त्‍य वायस एंड इंफोटेनमेंट सर्विसेज प्राइवेट लिमिटेड, प्‍लाट न. 02, शास्त्री नगर, जबलपुर, मध्‍यप्रदेश, भारत ।

भाग दो:

1.       पृष्ठभूमि
AVIS प्राइवेट लिमिटेड भारत की एक विधिवत स्थापित व्यावसायिक संस्‍थान है। यह भारत के मध्‍यप्रदेश राज्य के जबलपुर शहर में स्थित है।  

सुश्री/श्रीमती/श्री/डॉ/..........................................................................................द्वारा लिखित पुस्तक/ लेख/ कविता/ उपन्‍यास/ कहानी/ संस्‍मरण/ जीवनी/ लेख एवं अन्‍य लेखन...

प्रीमियम : 1. ..............................................
             2. ..............................................
            3. ..............................................
             4. ..............................................
           5. ..............................................
        
नान प्रीमियम: 1. .........................................
                  2. .........................................
                  3...........................................
                  4. ........................................
                  5. ........................................
    (कृपया आवश्यकतानुसार बढ़ाए)

·         लेखकों से अनुरोध है कि कृपया दोनों श्रेणियों प्रीमियम और नान प्रीमियम हेतु अपनी कृति/पुस्तक उप्लब्ध कराएं।

.....................का अनुबंध करते हुए AVIS प्राइवेट लिमिटेड को मेरे द्वारा किये गये कार्य की श्रव्य रूप में (ऑडियो में) करने की अनुमति देता/देती हूं।

इस अनुबंध में दिए गए नियम और शर्तों से लेखक और AVIS सहमत हैं-

2.       अधिकार की प्रकृति
लेखक, AVIS को अपनी मूल कृति/पुस्तक को ऑडियो रूप में निर्माण/ पुनः निर्माण, उपयोग, पुनः उपयोग और कार्य को ऑडियो प्रारूप में पुनः उत्पादित करने के लिए यहां दिए गए नियमों के अंतर्गत अधिकार प्रदान करता/करती हूं। AVIS ऑडियो रूप में कृति/पुस्तक को परिवर्तित करने के लिए आवश्‍यक और आंशिक संशोधन करने का अधिकार रखता है (बिना कृति के मूलभाव को क्षति पहुंचाए)। AVIS किसी भी समय डिजिटल प्रारूप (ऑडियो) में प्रकाशन के लिए स्वतंत्र है।
3.       लेखक की जानकारी का उपयोग
AVIS बिना लेखक की पूर्व सहमति के, लेखक द्वारा प्रदान की गयी व्यक्तिगत या निजी जानकारी को खुलासा न करने के लिए सहमत है।
4.       अनुबंध की अवधि
यह अनुबंध स्‍थाई है। लेखक कृति से संबंधित किसी भी प्रकार के ऑडियो अधिकार का हस्‍तांतरण नहीं कर सकता है।
5.       अनुमति प्रारूप
यह अनुबंध वर्तमान (श्रव्य प्रारूप) तथा भविष्य के मीडिया प्रारूपों में विस्तार करेगा। ऊपर दिए गए अधिकार संबंधित मीडिया प्रारूप में प्रदर्शित करने के लिए तकनीकी संशोधन के अधिकार को शामिल करते हैं।
6.       कार्य में संशोधन
लेखक AVIS को अपनी आश्‍यकता के अनुसार कार्य में संशोधन तथा संपादन करने की अनुमति देता है। इस तरह के बदलाव बिना किसी सीमा के शामिल हैं-
6.1.      व्याकरण, वाक्य रचना, वर्तनी और/या विराम सुधार।
6.2.      ऐसी किसी भी सामग्री को हटाना जो कि अपराधिक गतिविधियों, जातीय या धार्मिक घृणा, हिंसा या आतंकवाद को प्रोत्साहित करती है।
6.3.      कार्य की समग्र गुणवत्ता में सुधार लाने के उद्देश्य के लिए संशोधन।
6.4.     किसी भी प्रकार का बड़ा संशोधन जो रचना के मूल को प्रभावित करता है और आवश्‍यक है तो लेखक की सहमति से ही किया जाएगा।  


7.       वारंटी और क्षतिपूर्ति
लेखक यह पुष्टि करता है कि यह कार्य उसका मौलिक है और वह इस कृति का एकमात्र लेखक है तथा प्रतिलिप्याधिकार का मालिक है। इसके अलावा लेखक यह समझता है कि यदि भविष्य में किसी भी प्रकार का प्रतिलिप्याधिकार संबंधी दावों का उल्लंघन होता है या पता चलता है तो वह इसके लिए पूर्णतः जिम्मेदार होगा। लेखक इस अनुबंध के उल्लंघन के तहत किसी भी हानि, क्षति, दंड, कानूनी कार्रवाई अथवा किये गए दावों के लिए AVIS की क्षतिपूर्ति के लिए सहमत हैं।

8.       अनुबंध प्रभाव
भविष्य में यदि लेखक अपने प्रतिलिप्याधिकार का हस्तांतरण करता है तो प्रतिलिप्याधिकार प्राप्त व्यक्ति/संस्था को अनुबंध की सभी शर्तों को स्वीकार करना अनिवार्य होगा और इसे बिना किसी संबंधित लाभ के अपनाना होगा।
9.          संशोधन
इस अनुबंध में कोई भी बदलाव मूल साक्ष्यों सहित दोनों पक्षों द्वारा लिखित में तथा हस्ताक्षरित होना चाहिए।
10.      निष्कासन
कोई भी पक्ष इस अनुबंध को दूसरे पक्ष को 90 दिनों का नोटिस देकर समाप्त कर सकता है। अनुबंध के निष्कासन तथा समाप्ति के बीच दोनों पक्षों का सहमत होना आवश्‍यक है। लेखक की अवधि समाप्ति या बीच में इस अनुबंध के टूटने के मामले में AVIS उत्पादन मूल्य का आवश्‍यकतानुसार दोनों पक्षों की सहमति से निर्णय करेगा। (लेखक की ऑडियो कृति/पुस्‍तक बनाने का मूल्य)

11.   संपूर्ण अनुबंध
इस अनुबंध में लेखक और AVIS (श्रव्य रूप) के बीच हुए संपूर्ण मापदंड निहित हैं। ऐसा कोई भी नियम मौखिक या लिखित में नहीं  हैं। इस अनुबंध में शामिल होकर दोनों (लेखक और AVIS) यह स्वीकार करते हैं कि दोनों अपने द्वारा ही किए गये जांच, छानबीन और निर्णय पर भरोसा कर रहे हैं।
AVIS और लेखक आगे यह आश्वासन देते हैं की उनके पास अनुबंध में प्रवेश करने का अधिकार और शक्ति है और किसी भी अन्य पक्ष के साथ कोई अनुबंध नही हैं।

12.विवाद समाधान
अनुबंध से संबंधित उत्पन्न किसी भी प्रकार का दावा या विवाद जबलपुर, मध्य प्रदेश, भारत के न्यायालय में होगा।

13.    www.booksin voice.com
हिंदी जगत की समृद्धि के लिए यह एक महत्‍वपूर्ण कदम है। AVIS  आपके महत्‍वपूर्ण लेखन को बिना किसी शुल्‍क के (लेखक से) ऑडियो प्रारूप में बनाने के लिए प्रतिबद्ध है। AVIS  दिव्‍यांगजनों के लिए भी शिक्षण सामग्री ऑडियो प्रारूप में बिना किसी मूल्‍य के उपलब्‍ध कराने के लिए प्रयासरत है। अत: रचनाकारों से विनम्र अपील है कि वे अपने महत्‍वपूर्ण लेखन को हिंदी साहित्‍य को समृद्ध करने हेतु प्रदान करने की कृपा करें।  
·        AVIS लेखक को कृति/पुस्तक की ऑडियो प्रति नहीं देगा।

AVIS आपकी कृति/पुस्तक को वेबसाइट के माध्यम से ऑडियो रूप में श्रोताओं तक पहुंचाएगी। वेबसाइट पर कृति/पुस्तक को दो श्रेणियों में विभाजित किया गया है प्रीमियम और नान प्रीमियम।
प्रीमियमः
इस श्रेणी में उन कृति/पुस्तक को रखा जाएगा, जिन्हें श्रोता कृति/पुस्तक का निर्धारित मूल्य देकर सुन सकता है। इस निर्धारित मूल्य में से लेखक को प्रत्येक खरीद पर 10 प्रतिशत (दस प्रतिशत) रायल्टी (कृति/पुस्तक का मूल्य, हमारा प्रयास है कि 05 रुपए के अंदर ही रखा जाए, कृति/पुस्तक का मूल्य निर्धारण, पृष्ठों की संख्या एवं गुणवत्ता के आधार पर होगा।) मिलेगी।

नान प्रीमियमः
इस श्रेणी में उन कृति/पुस्तक को रखा जाएगा जिन्हें श्रोता वेबसाइट पर कुछ अंशदान मूल्य (सब्स्क्रिप्शन मूल्य) देकर फ्री में सुन सकता है।
·        किसी भी समय नान प्रीमियम श्रेणी के अंतर्गत कोई भी कृति/पुस्तक अधिक सुनी जा रही है तो उसे तत्काल प्रीमियम श्रेणी में स्थानांतरित कर दिया जाएगा।

14.   यह अनुबंध सूचना तकनीक अधिनियम 2000 (ITA -2000 या  IT ACT) और अन्‍य संशोधनों (ITA 2008) के सभी नियमों का पालन करता है।
15.  अनुबंध पत्र में किसी भी प्रकार का संशोधन मान्‍य नहीं होगा ।
          Sd/                          
लेखक  नाम  
 Sd/-
   निदेशक

Thanks and Regards

AVIS

Agastya Voice and Infotainment Services PVT. LTD. 

Contact us: +917020201547

गुरुवार, 20 जुलाई 2017

गोवर्धन यादव की कविताएं




1-

एक अरसा बीत गया   
तुम दिखाई नहीं दीं गौरिया ?
और न ही वह झुंड जो 

हरदम आता था साथ तुम्हारे-
दाना-चुग्गा चुनने
कहाँ हो, कहाँ हो गौरैया तुम ?
न जाने कहाँ बिला गईं ?
तुम्हें एक नजर देखने को
कब से तरस रही हैं मेरी आँखें।


2-
अपनी संग-सहेलियों के संग
आँगन में फ़ुदक-फ़ुदक कर चलना
चाँवल की कनकी को चुनना
चोंच भर पानी पीना
फ़िर, फ़ुर्र से उड़ जाना
कितना सुहाना लगता था
न तो तुम आईं
और न ही तुम्हारी कोई सहेली
बिन तुम्हारे
सूना-सूना सा लगता है आँगन।

3-
कहाँ हो, कहाँ हो तुम गौरिया ?
तुम्हें धरती ने खा लिया, या       
आसमान ने लील लिया ?
एक अरसा बीत गया तुम्हें देखे
न जाने क्यों
उलटे-सीधे- सवाल       
उठने लगते हैं मन में।



4-
तुम तो तुम           
वह लंगड़ा कौवा भी अब दिखाई नहीं देता
जो तुम्हें डराता नहीं था, बल्कि
चुपचाप बैठा,
रोटी के टुकड़े बीन-बीन खाता था.
अब सुनाई नहीं देती-       
तुम्हारी आवाज और
न ही दिखाई देता है वह लंगड़ा कौवा ही
फ़र्श पर बिखरा चुग्गा
मिट्टी के मर्तबान में भरा पानी
जैसा का वैसा पड़ा रहता है महिनों
शायद, तुम लोगों के इन्तजार में
कब लौटोगे तुम सब लोग ?


5-
तुम्हारे बारे में
सोचते हुए कुछ.....
कांपता है दिल
बोलते हुए लड़खड़ाती है जीभ
कि कहीं तुम्हारा वजूद
सूरज की लपलपाती प्रचण्ड किरणॊं ने-
तो नहीं लील लिया?
शायद ऎसा ही कुछ हुआ होगा
तभी तो तुम दिखाई नहीं देतीं
दूर-दूर तक
और न ही सुनाई देती है
तुम्हारी चूं-चां की आवाज।


6-
कितनी निष्ठुरता से आदमी
काटता है पेड़
पल भर को भी नहीं सोचता, कि
नहीं होंगे जब पेड़, तो
हरियाली भी नहीं बचेगी
हरियाली नहीं होगी तो
बंजर हो जाएगी धरती
बेघर हो जाएंगे पंछी
सूख जाएंगी नदियां
अगर सूख गईं नदियां
तो तुम कहीं के भी नहीं रहोगे
और न ही तुम्हारी पीढ़ियाँ ?

7-
एक चोंच दाना-
एक चोंच पानी और
घर का एक छोटा सा कोना-
यही तो मांगती है गौरैया तुमसे,
इसके अलावा वह और कुछ नहीं मांगती
न ही उसकी और कोई लालसा है
क्या तुम उसे दे पाओगे?
चुटकी भर दाना,
दो बूंद पानी और
घर का एक उपेक्षित कोना ?

 8-
मुझे अब भी याद है बचपन के सुहाने दिन
वो खपरैल वाला, मिट्टी का बना मकान
जिसमें हम चार भाई,
रहते थे मां-बाप के सहित
और इसी कच्चे मकान के छप्पर के एक कोने में
तुमने तिनका-तिनका जोड़कर बनाया था घोंसला
और दिया था चार बच्चों को जनम
इस तरह, इस कच्चे मकान में रहते थे हम एक दर्जन प्राणी,
हंसते-खेलते-कूदते-खिलखिलाते-आपस में बतियाते
तुम न जाने कहां से बीन लाती थीं खाने की सामग्री
और खिलाती थीं अपनों बच्चों को भरपेट.
समय बदलते ही सब कुछ बदल गया
अब कच्चे मकान की जगह
सीमेन्ट-कांक्रिट का तीन मंजिला मकान हो गया है खड़ा
रहते हैं उसमें अब भी चार भाई पहले की तरह
अलग-अलग, अनजान, अजनबी लोगों की तरह-
किसी अजनबी पड़ौसियों की तरह
नहीं होती अब उनके बीच किसी तरह की कोई बात
सुरक्षित नहीं रहा अब तुम्हारा घोंसला भी तो
सोचता हूँ, सच भी है कि
मकान भले ही कच्चा था लेकिन मजबूत थी रिश्तों की डोर
शायद, सीमेन्ट-कांक्रीट के जंगल के ऊगते ही
सभी के दिल भी पत्थर के हो गए हैं ।


9-
बुरा लगता है मुझे-
अखबार में पढ़कर और
समाचार सुनकर
कि कुछ तथाकथित समाज-सेवी
दे रहे होते हैं सीख,
चिड़ियों के लिए पानी की व्यवस्था की जाए
और फ़िर निकल पड़ते हैं बांटने मिट्टी के पात्र
खूब फ़ोटॊ छपती है इनकी
और अखबार भी उनकी प्रसंशा में गीत गाता है
लोग पढ़ते हैं समाचार और भूल जाते हैं.
काश ! हम कर पाते इनके लिए कोई स्थायी व्यवस्था
तो कोई पशु-पक्षी-
नहीं गंवा पाता अपनी जान।



संपर्क-  
103 कावेरी नगर छिन्दवाड़ा म.प्र. 480-001
 Mob-  07162-246651 0.94243-56400
E mail address-   
goverdhanyadav44@gmail.com                                                    yadav.goverdhan@rediffmail.com


रविवार, 9 जुलाई 2017

डॉ. शैलेष गुप्त 'वीर' के दो गीत






 
























1- मम्मी से
मम्मी देखो बात मान लो,
 बचपन में ले जाओ मुझको।

पकड़-धकड़ के, रगड़-रगड़ के  
नल नीचे नहलाओ मुझको।  
तेल लगाओ मालिश कर दो,
 मुझे हँसाओ जी भर खुद को।
मम्मी देखो बात मान लो...।।

भाग-भाग कर पकड़ न आऊँ,  
छड़ी लिए दौड़ाओ मुझको।
छुटपन के फिर रंग दिखाऊँ,  
रूठूँ मैं बहलाओ मुझको।
 मम्मी देखो बात मान लो...।।

तरह-तरह की करूँ शरारत,
 दे दो घोड़ागाड़ी मुझको।  
बाल अदाएँ नटखट-नटखट,
फिर से मैं दिखलाऊँ तुमको।
मम्मी देखो बात मान लो...।।

2- नभ गंगा

एक छुअन तेरी मिल जाती,
यह धरती सारी हिल जाती।

गगनलोक में विचरण करता,  
मंगल पे निलय बना लेता।
भर देता माँग सितारों से,  
हर पत्रक कमल बना देता।
नभगंगा भी खिल-खिल जाती,  
सरिता सागर से मिल जाती।

कर नीलांबर को निजवश में,  
चाँदनी संग मैं इठलाता।
धर राहु-केतु को मुट्ठी में,
कटु-रोदन को मैं तड़पाता।
याद न तेरी पल-पल आती,  
तृष्णा उत्कट भी गल जाती।

सावन आता इस जीवन में,
होता नवप्रभात का फेरा।
सूरज भी डाल रहा होता,
 मेरे घर में अपना डेरा।
मोम इश्क़ की गल-गल जाती,  
केसर फुलवारी खिल जाती।

मिल न सकी वो छुअन सुनहरी,
इंतज़ार में मैं बैठा हूँ।
इन हाथों में ब्रह्मांड धरे,  
जीवन निर्जन कर बैठा हूँ।
तू आती मुझमें मिल जाती
संसृति मुस्काती खिल जाती।




                                                       
                                                       
सम्पर्क:
24/18, राधा नगर, फतेहपुर (उ.प्र.)-212601

वार्तासूत्र : +91 9839942005 ई-मेल : doctor_shailesh@rediffmail.com

रविवार, 18 जून 2017

मदन मोहन 'समर' की कविताएं





1- मतभेद हुआ है

मेरे घर की दीवारों में छेद हुआ है।
चूल्हे-चौके में शायद मतभेद हुआ है।

धूप सुनहरी बाहर बैठी भीतर धुआं धुआं है।
हवा ताकती खिड़की-रोशनदानों में कुछ आं है।
द्वारे छपी रंगोली रंगों से ही कन्नी काट रही।
ठाकुर जी की पूजा कितने दिन से सुन्न-सपाट रही।
शिकनों से तर माथे सबके शुष्क स्वेद हुआ है।

रोटी की गोलाई बताती चूड़ी हुई उदास है।
तरकारी की मिरच नमक को खटपट का अहसास है।
जलते दूध मलाई में, चिकनी हुई कढ़ाई में।
भाँप रहा है कच्चा भात, रिश्ते पड़े खटाई में।
खुसुर-पुसुर बतियाते बर्तन कुछ तो भेद हुआ है।

बड़ी बहू की पाबंदी पल्लू से छूट रही।
छोटी की मनमर्जी से छन देहरी टूट रही।
मंझली,संझली की पायल के घुंघरू ठसे-ठसे हैं।
करवाचौथ के धूप नारियल फीकी हँसी हँसे हैं।
मुन्नी को पीहर में आकर अबकी खेद हुआ है।

खीझ, घुड़कियां, डांट, उलाहनों से बच्चे हैरान हैं।
तीखी तीखी सी चुप्पी है बातें तीर कमान हैं।
आधी से थोड़ा सी ऊपर सांझी गुल्लक अटक गई।
एक अठन्नी डाली गुड्डो ने मम्मी क्यों चटक गई।
इसके उसके कमरे में प्रवेश निषेध हुआ है।

दरी-चटाई का आँगन में बिछना बंद हुआ।
साँझ सुहानी का छत पर हँसना मंद हुआ।
तुलसी जी के पत्तों में बेचैनी दीख रही।
बरसों पहले भूल गई जो माँ वो सीख रही।
आपस में कुछ काला पीला और सफेद हुआ है।

  
2- खींचा-तानी है

टोका-टाकी, तीख-तल्खियां, नीम-जुबानी है।
लगता है हल-बख्खर में कुछ खींचा-तानी है।

प्यासी गाय रंभाती भैंसे खूंटा तोड़ रहीं हैं।
टुकड़े-टुकड़े रस्सी को बस गाठें जोड़ रहीं हैं।
रही लाड़ली बछिया भूखी चाटे रोज खनौटे।
कोस-कोस कर भारमुक्त हैं चिन्ता जड़े मुखौटे।
बूढ़े बैलों की आँखों मे टप-टप पानी है।

बिना बखरनी गया पलेवा मिट्टी सूख कराही।
टूट परेहना और नुकीली करने लगे तबाही।
मूंछ मरोड़े चारा चमका फसलें हुई रुआंसी।
मेढ़-मेढ़ पर कदम छपे हैं जैसे चाल सियासी।                                     
भारी बांट तराजू उतरे हल्की हुई किसानी है।

पगड़ी को परवाह नहीं है बढ़ने लगे तकादे।
झक्क सफेदी कुर्ते पर है मैले हुए इरादे।
हंसिया और कुदाली खुरपी टंगिया हुए अछूत।
बिना बोहनी आधे खेतों उड़ने लगी भभूत।
बागड़ की रखवाली के प्रति आनाकानी है।

चौखट बहरी हुई हमारी खी खी मची मुहल्लों में।
गीले आटे की आहट पर शर्तें लगी निठल्लों में।
सभी पुछल्ले बात बनाते टल्ली बैठ कलाली में।
खा-खा लिए डकारें फोड़े छेद समूची थाली में।
दरवाजा है नमक-हरामी देहरीया बेगानी है।

घर-घर कानाफूसी करती धूल उड़ी दालान की।
परकोटे पर पीक पड़ी है पनवाड़ी के पान की।
पंसारी की पुड़िया तक में चर्चा बंधी तनाव की।
महरी राख बांटती फिरती जलते हुए अलाव की।
खुले किवाड़ो आती-जाती मगरुरी मनमानी है।
           
संपर्क-
मदन मोहन 'समर'
भोपाल, मध्य प्रदेश, India
MO-.09425382012
e-mail-samarkavi@rediffmail.com